वृन्दावन महिमामृत -श्यामदास पृ. 1

श्रीवृन्दावन महिमामृतम्‌ -श्यामदास

Prev.png
परमाभिवन्दनीय-श्रीगौरांग-भगवत प्रिय-पार्षद

परिव्राजकाचार्य
श्रीप्रबोधानन्द सरस्वतीपाद का जीवन-चरित्र

श्री प्रबोधानन्द सरस्वती पाद का जन्म एक श्रेष्ठ विशिष्ट ब्राह्मण-कुल में हुआ। इनके पिता-पितामह आन्ध प्रदेश के रहने वाले थे, जो श्री सम्प्रदायी वैष्णव थे। उस समय केवल श्रीरंगक्षेत्र ही श्रीवैष्णव-सेवित तीर्थ था। अपने गांव में भजनोचित सुविधा न देखकर वे रंग-क्षैत्र (मैसूर प्रदेश) में कावेरी नदी के किनारे बेलुंगुरी गांव में सपरिवार निवास करने लगे थे। श्री सरस्वती पाद के दो भ्राता और भी थे। ज्येष्ठ भ्राता का नो श्री वैंकट भट्ट तथा मध्यम भ्रता का नाम श्री त्रिमल्ल भट्ट था। ये भट्ट-परिवार श्री लक्ष्मी नारायण का अनन्य उपासक था। श्री वैंकट भट्ट, यतीन्द्र श्री नृसिंह देव के कृपा पात्र थे और सुविख्यात् विद्वान् एवं सर्वशास्त्र-तत्त्वज्ञ थे। जब श्री मन्नहा प्रभु तीर्थ-यात्रा के छल से प्रेम भक्ति का वितरण करते हुए दक्षिण देश में पधारे, तब श्री वैंकट भट्टजी ने उन्हें अपने घर पर चातुर्मास्य बिताने की आग्रह-पूर्वक प्रार्थना की।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

श्रीवृन्दावन महिमामृतम्‌ -श्यामदास
क्रमांक पाठ का नाम पृष्ठ संख्या
1. परिव्राजकाचार्य श्री प्रबोधानन्द सरस्वतीपाद का जीवन-चरित्र 1
2. व्रजविभूति श्री श्यामदास 33
3. परिचय 34
4. प्रथमं शतकम्‌ 46
5. द्वितीय शतकम्‌ 90
6. तृतीयं शतकम्‌ 135
7. चतुर्थं शतकम्‌ 185
8. पंचमं शतकम्‌ 235
9. पष्ठ शतकम्‌ 280
10. सप्तमं शतकम्‌ 328
11. अष्टमं शतकम्‌ 368
12. नवमं शतकम्‌ 406
13. दशमं शतकम्‌ 451
14. एकादश शतकम्‌ 500
15. द्वादश शतकम्‌ 552
16. त्रयोदश शतकम्‌ 598
17. चतुर्दश शतकम्‌ 646
18. पञ्चदश शतकम्‌ 694
19. षोड़श शतकम्‌ 745
20. सप्तदश शतकम्‌ 791
21. अंतिम पृष्ठ 907

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                                 अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र    अः