यह कहि कै तिय धाम गई -सूरदास

सूरसागर

दशम स्कन्ध

Prev.png
राग बिलावल
राधा जी का मध्यम मान


यह कहि कै तिय धाम गई।
रिसनि भरी नख सिख लौ प्यारी, जोबन-गर्ब-भई।।
सखी चली गृह देखि दसा यह, हठ करि बैठी जाइ।
बोलति नही मान करि हरि सौ हरि अंतर रहे आइ।।
इहिं अंतर जुबती सब आई जहाँ स्याम घर द्वारैं।
प्रिया मान करि बैठी रही है, रिस करि क्रोध तुम्हारै।
तुम आवत अतिही झहरानी, कहा करी चतुराई।
सुनत 'सूर' यह बात चकित पिय, अतिहिं गए मुरझाई।।2564।।

Next.png

पूर्वार्ध
पूतना-वध श्रीधर-अंग-भंग कागासुर-वध सकटासुर-वध तृणावर्त-वध नामकरण अन्नप्राशन वर्षगाँठ घुटुरुवों चलना पाँवों चलना बाल-छवि-वर्णन कनछेदन चंद्र-प्रस्ताव कलेवा-वर्णन क्रीड़न पाँड़े-आगमन माटी-भक्षण-प्रसंग शालिग्राम-प्रसंग प्रथम माखन-चोरी उलूखल-बंधन यमलार्जुन-उद्धार की दूसरी कथा गो-दोहन वृंदावन-प्रस्थान गो-चारण बकासुर-वध अघासुर-वध ब्रह्मा-बालक-वत्स-हरण बाल वत्स-हरण की दूसरी लीला धेनुक-वध कालीदह-जल-पान ब्रज-प्रवेश-शोभा कमल-पुष्प मँगाना, काली-दमन लीला दावानल-पान लीला प्रलंब-वध मुरली-स्तुति गोपिका-वचन श्रीराधा-कृष्ण मिलाप सुख-विलास गृह-गमन राधिकाजी का यशोदा-गृह गमन राधा-गृह-गमन राधिका का पुनरागमन चीर-हरन-लीला दूसरी चीर-हरन-लीला यज्ञ-पत्नी-लीला यज्ञ-पत्नी-वचन गोवर्धन-पूजा तथा गोवर्धन-धारण गिरिधारण-लीला गोवर्धन की दूसरी लीला गोपादि की बातचीत अमर-स्तुति तथा कृष्णाभिषेक इंद्र-शरणागमन वरुण से नंद को छुड़ाना रास-पंचाध्यायी आरंभ श्रीकृष्ण-विवाह-वर्णन श्रीकृष्ण का अंतर्धान होना गोपी-गीत रास-नृत्य तथा जल-क्रीड़ा विद्याधर-शाप-मोचन वृंदावन-विहार शंखचूड़-वध श्रीकृष्ण-ज्योनार गोपी-वचन, मुरली के प्रति मुरली-वचन, गोपियों के प्रति गोपी-वचन, परस्पर श्रीकृष्ण का व्रजागमन बृषाभाषुर-वध केशी-वध व्योमासुर-वध पनघट-लीला दान-लीला ग्रीष्म-लीला यमुनागमन-युगलसमागम लघु-मानलीला नैन समय के पद आँख समय के पद मानलीला और दंपति विहार खंडिता प्रकरण राधा का मान राधाजी का मध्यम मान सुखमा गृहागमन सुखमा के घर सखियों का आगमन वृंदा-गृह-गमन वृंदा के धाम से प्रमुदा के धामगमन बड़ी मानलीला दूसरी गुरु मानलीला झूलन बसंत लीला अक्रूर-ब्रज-आगमन गोपिकाओं की उद्विग्नता यशोदा वचन श्रीकृष्ण के प्रति नंदवचन, यशोदा के प्रति गोपिका वचन, परस्पर यशोदा विलाप कृष्ण वचन नंद के प्रति अक्रूर-कृत-श्रीकृष्ण-स्तुति अक्रूर पत्यागमन श्रीकृष्ण का मथुरा आगमन रजक वध धनुष-भंगलीला कुवलया वध हस्ती वध (संक्षिप्त) श्रीकृष्ण वचन मल्लों के प्रति वसुदेव दर्शन यज्ञोपवीत उत्सव नंद बिदाई नंदब्रजागमन सखीवचन; यशोदाविलाप ब्रजवासीवचन, आगत ग्वाल-वचन; गोपीजन ब्रजदसा परस्पर नंद-यशोदा-वचन पंथीवचन, देवकी के प्रति गोपी-विरह-वर्णन स्वप्नदर्शन चन्द्रोपालंंभ उद्धव-व्रज-आगमन स्याम रंग पर तर्क यशोदा जी का संदेश उद्धव आगमन, भ्रमरगीत संक्षेप उद्धव प्रत्यागमन श्रीकृष्ण का अक्रूर-गृह-गमन श्रीकृष्ण का अक्रूर-गृह-गमन

संबंधित लेख