महाभारत आदि पर्व अध्याय 76 श्लोक 1-20

षट्सप्ततितम (76) अध्‍याय: आदि पर्व (सम्भव पर्व)

Prev.png

महाभारत: आदि पर्व: षट्सप्ततितम अध्‍याय: श्लोक 1-20 का हिन्दी अनुवाद
कच का शिष्‍यभाव से शुक्राचार्य और देवयानी की सेवा में संलग्न होना और अनेक कष्ट सहने के पश्‍चात् मृतसंजीविनी विद्या प्राप्त करना

जनमेजय ने पूछा- तपोधन! हमारे पूर्वज महाराज ययाति ने, जो प्रजापति से दसवीं पीढ़ी में उत्‍पन्न हुए थे, शुक्राचार्य की अत्‍यन्‍त दुर्लभ पुत्री देवयानी को पत्नी रुप में कैसे प्राप्त किया? मैं इस वृत्तान्‍त को विस्‍तार से सुनना चाहता हूँ। आप मुझसे सभी वंश-प्रवर्तक राजाओं को क्रमश: पृथक-पृथक वर्णन कीजिये। वैशम्पायन जी ने कहा- जनमेजय! राजा ययाति देवराज इन्‍द्र के समान तेजस्‍वी थे। पूर्वकाल में शुक्राचार्य और वृषपर्वा ने ययाति का अपनी-अपनी कन्‍या के पति रूप में जिस प्रकार वरण किया, वह प्रसंग तुम्‍हारे पूछने पर मैं तुमसे कहूंगा। साथ ही यह भी बताऊंगा कि नहुषनन्‍दन ययाति तथा देवयानी का संयोग किस प्रकार हुआ। एक समय चराचर प्राणियों सहित समस्‍त त्रिलोकी के ऐश्वर्य के लिये देवताओं और असुरों में परस्‍पर बड़ा भारी संघर्ष हुआ। उसमें विजय पाने की इच्‍छा से देवताओं ने अंगिरा मुनि के पुत्र बृहस्‍पति का पुरोहित के पद पर वरण किया और दैत्‍यों ने शुक्राचार्य को पुरोहित बनाया। वे दोनों ब्राह्मण सदा आपस में बहुत लोग-डाट रखते थे। देवताओं ने उस युद्ध में आये हुए जिन दानवों को मारा था, उन्‍हें शुक्राचार्य ने अपनी संजीविनी विद्या के बल से पुन: जीवित कर दिया। अत: वे पुन: उठकर देवताओं से युद्ध करने लगे। परंतु असुरों ने युद्ध के मुहाने पर जिन देवताओं को मारा था, उन्‍हें उदार बुद्धि बृहस्‍पति जीवित न कर सके। क्‍योंकि शक्तिशाली शुक्राचार्य जिस संजीविनी विद्या को जानते थे, उसका ज्ञान बृहस्‍पति को नहीं था। इससे देवताओं को बड़ा विषाद हुआ।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                                 अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र    अः