जान देहु गोपाल बुलाई -सूरदास

सूरसागर

दशम स्कन्ध

Prev.png
राग बिलावल
यज्ञ-पत्नी-बचन


जान देहु गोपाल बुलाई।
उर की प्रीति प्रान कैं लालच, नाहिंन परति दुराई।।
राखो रोकि बाँधि दृढ़ बंधन, कैसे हूँ करि त्रास।
यह हठ अब कैसे छूटत हैं, जब लगि है उर स्वास।।
साँच कहौं मन बचन कर्म करि, अपने मन की बात।
तन तजि जाइ मिलौंगी हरि सौं, कत रोकत तहँ जात।।
अवसर गऐं बहुरि सुनि सूरज, कह कीजैगी देह।
बिछुरत हंस बिरह कैं सूलनि, झूठे सबै सनेह।।801।।

Next.png

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख