सजल-जलद-नीलाभ तन -हनुमान प्रसाद पोद्दार

पद रत्नाकर -हनुमान प्रसाद पोद्दार

श्रीराधा माधव स्वरूप माधुरी

Prev.png
राग काफी - ताल कहरवा


सजल-जलद-नीलाभ तन, बदन-सरोज रसाल।
पीत-बसन, सिखि-पिच्छ सिर मुकुट, तिलक बर भाल॥
पग नूपुर, कुंडल श्रवन, कंठ हार-वनमाल।
हाथ लिएँ मुरली मधुर, ललित त्रिभंगी लाल॥
मुनि-मन-हर, जन-मन-सुखद अपलक नैन बिशाल।
ठाढ़े भोले भावमय मधुर बाल-गोपाल॥

Next.png

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                                 अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र    अः