तब तै मिटे सब आनंद -सूरदास

सूरसागर

दशम स्कन्ध

Prev.png
राग धनाश्री


तब तै मिटे सब आनंद।
या व्रज के सब भाग संपदा, लै जु गए नँदनंद।।
बिह्वल भई जसोदा डोलति, दुखित नंद उपनंद।
धेनु नहीं पय स्त्रवतिं रुचिर मुख, चरतिं नही तृण कंद।।
विषम वियोग दहत उर सजनी, बाढ़ि रहे दुख दंद।
सीतल कौन करै री माई, माहि इहाँ व्रजनंद।।
रथ चढ़ि चले गहे नहि काहु, चाहि रहीं मतिमंद।
‘सूरदास’ अब कौन छुड़ावै, परै बिरह कै फंद।। 3157।।

Next.png

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                                 अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र    अः