गीता प्रबंध -अरविन्द पृ. 463

Prev.png
गीता-प्रबंध -श्री अरविन्द भाग-2
खंड-2 : परम रहस्य
18.त्रिगुण, श्रद्धा और कर्म[1]


गीता व्यक्तिगत कामना की स्वच्छंदता के अनुसार और शास्त्र की विधि के अुनसार किये जाने वाले कर्मों में भेद कर चुकी है। शास्त्र शब्द से हमे जीवन-यात्रा की उस सर्वसम्मत विद्या एवं कला को समझना होगा जो मनुष्य जाति के सामूहिक जीवन का परिणाम है, जो उसकी संस्कृति, धर्म एवं विज्ञान है, जीवन के सर्वश्रेष्ठ विधान की विकसनशील उपलब्धि है,-पर मनुष्य जाति अभी भी अज्ञान में गति कर रही है और अधूरे प्रकाश में ही ज्ञान की ओर अग्रसर हो रही है। वैयक्तिक कामना का कर्म हमारी प्रकृति की असंस्कृत अवस्था से संबंध रखता है और वह अज्ञान या मिथ्या ज्ञान और अनियंत्रित या कुनियंत्रित राजसिक अहंकार से प्रेरित होता है।

शास्त्र के द्वारा नियंत्रित कर्म बौद्धिक, नैतिक, सौन्दर्यात्मक, सामाजिक और धार्मिक संस्कृति का परिणाम होता है; वह एक प्रकार के यथायथ जीवन-यापन, सामंजस्य एवं यथार्थ व्यवस्था के लिये किये गये प्रयत्न का मूर्त रूप होता है। स्पष्ट ही वह मनुष्य के सात्त्विक अंश का एक नियंत्रित करने के लिये अथवा, जहाँ इसे स्वीकार करना आवश्यक होता है वहां, इसका परिचालन करने के लिये किया जाता है; वह प्रयास परिस्थितियों के अनुसार कम या अधिक वेग से प्रगति करता है। एक कदम और आगे बढ़ने के लिये वह एक साधन होता है, अतएव मनुष्य जाति को पहले इसमें से गुजरना होगा और अपनी व्यक्तिगत कामनाओं की प्रेरणा का अनुसरण करने के बजाय इस शास्त्र को अपने कर्म का विधान बनाना होगा।

जहाँ कहीं मानव जाति ने किसी प्रकार के सुप्रतिष्ठित एवं विकसित समाज की स्थापना की है वहाँ उसने इस सामान्य विधान को सदा ही अंगीकार किया है। व्यवस्था के सम्बंध में उसकी एक धारणा है, उसका अपना एक विधान है, अपनी पूर्णता के सम्बंध में उसका एक आदर्श है, जो उसकी कामनाओं के निर्देश या उसके अपरिपक्व आवेगों के स्थूल निर्देश से भिन्न हैं इस महत्तर विधान को व्यक्ति साधारतः अपने से बाहर, जाति के अनुभव और ज्ञान के किसी न्यूनाधिक स्थिर सिद्धांत में उपलब्ध करता है; और उस सिद्धांत को वह स्वीकार कर लेता है, उसका मन तथा उसकी सत्ता के प्रमुख भाग उसे अपनी सहमति या अनुमति प्रदान करते हैं और अपने मन, संकल्प तथा कर्म में उस सिद्धांत को चरितार्थ करके वह उसे अपना बना लेने की चेष्टा करता है। उसकी सत्ता की इस सहमति को, विश्वास करने तथा उपलब्ध करने के लिये उसकी इस सचेतन स्वीकृति एवं संकल्प को हम, गीता के अनुसार ‘श्रद्धा’ का नाम दे सकते हैं।

Next.png

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. गीता, अध्याय 17

संबंधित लेख

गीता प्रबंध -अरविन्द
क्रम संख्या पाठ का नाम पृष्ठ संख्या
भाग-1
1. गीता से हमारी आवश्यकता और मांग 1
2. भगवद्गुरु 9
3. मानव-शिष्य 17
4. उपदेश का सारमर्म 26
5. कुरुक्षेत्र 37
6. मनुष्य और जीवन-संग्राम 44
7. आर्य क्षत्रिय-धर्म 56
8. सांख्य और योग 68
9. सांख्य, योग और वेदांत 80-81
10. बुद्धियोग 92
11. कर्म और यज्ञ 102
12. यज्ञ-रहस्य 110
13. यज्ञ के अधीश्वर 119
14. दिव्य कर्म का सिद्धांत 128
15. अवतार की संभावना और हेतु 139
16. भगवान की अवतरण-प्रणाली 152
17. दिव्य जन्म और दिव्य कर्म 161
18. दिव्य कर्मी 169
19. समत्व 180
20. समत्व और ज्ञान 192
21. प्रकृति का नियतिवाद 203
22. त्रैगुणातीत्य 215
23. निर्वाण और संसार में कर्म 225
24. कर्मयोग का सारतत्त्व 238
भाग-2
खंड-1
1. दो प्रकृतियां 250
2. भक्ति-ज्ञान-समन्वय 262
3. परम ईश्वर 272
4. राजगुह्य 284
5. भवदीय सत्य और मार्ग 294
6. कर्म, भक्ति और ज्ञान 305
7. गीता का महावाक्य 320
8. भगवान की संभूति–शक्ति 337
9. विभूति का सिद्धांत 348
10. विश्वरूप-दर्शन 360
11. विश्वपुरुष–दर्शन 372
12. मार्ग और भक्त 380
खंड-2
13. क्षेत्र और क्षेत्रज्ञ 391
14. त्रैगुणातीत 403
15. तीन पुरुष 417
16. आध्यात्मिक कर्म की परिपूर्णता 433
17. देव और असुर 449
18. त्रिगुण, श्रद्धा और कर्म 463
19. त्रिगुण,मन और कर्म 482
20. स्वभाव और स्वधर्म 497
21. परम रहस्य की ओर 518
22. परम रहस्य 533
23. गीता का सारमर्म 558
24. गीता का संदेश 570
25. अंतिम पृष्ठ 597

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                                 अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र    अः